ABOUT US

हमारी कहानी



कोविड ​​-19 का मुकाबला करने के लिए भारत 25 मार्च, 2020 को एक अभूतपूर्व लॉकडाउन में चला गया। हालांकि, एक तरफ, महामारी के प्रभाव को रोकने के लिए इसे एक अनिवार्य उपाय के रूप में देखा गया था, दूसरी ओर इस लॉकडाउन में लोगों ने बड़े पैमाने पर नौकरियां खो दी और हमने बड़े शहरों से प्रवासी मदूरों का भारी पलायन देखा। सरकार के नेतृत्व वाले उपायों के साथ, विभिन्न एनजीओ, नागरिक समूह और एकल व्यक्ति संकट के इस दौर में साथी नागरिकों की मदद के लिए सामने आए। URHope नाम का एक ऑनलाइन पोर्टल एक ऐसा ही प्रयास था।


URHope का विचार तब अंकुरित हुआ जब अपने दोस्तों के साथ मिल कर IIT बॉम्बे के कुछ वर्तमान और पूर्व छात्रों ने कोविड-19 के मद्देनजर चलाए जा रहे विभिन्न राहत कार्यक्रमों तक लोगों की पहुंच को आसान बनाने के लिए एक ऑनलाइन मंच का निर्माण करने के बारे में सोचा। टीम ने सबसे पहले सरकार की ओर से भोजन, आश्रय, स्वास्थ्य, ई-पास आदि क्षेत्रों में सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में जिला स्तर तक चलाए जा रहे राहत कार्यों का डेटाबेस तैयार किया और कोविड के मद्देनजर जरूरतमदों को विभिन्न क्षेत्रों में सहायता प्रदान करने वालों (चाहे सरकारी, एनजीओ, नागरिक समूहों) से जोड़ने के लिए एक मंच की परिकल्पना और निर्माण किया गया। भोजन उसी में से एक क्षेत्र है।


बेहद योगदान देने के बाद, URHope की मूल टीम ध्वस्त हो गई। तीन सदस्य, प्रिया शर्मा (IIT बॉम्बे में पीएचडी स्कॉलर), आशिता स्वामी (बनस्थली विद्यापीठ, राजस्थान में मेक्ट्रोनिक्स इंजीनियरिंग की छात्रा) और प्रवेश मेहता (डॉ। डीवाई पाटिल आईपीएसआर पुणे में फार्मेसी स्नातक), हालांकि मंच से आगे ले जाने के लिए डटे रहे। प्रिया के नेतृत्व में उन्होंने फूडबैंक के साथ हाथ मिलाया। FoodBank की शुरुआत मूल रूप से बाली, इंडोनेशिया में मैक्स ब्रात्सुन द्वारा बाली में सभी खाद्य संबंधित गैर-सरकारी संगठनों के लिए एक मंच बनाने के लिए की गई थी। अमृतेश श्रीवास्तव (सॉफ्टवेयर इंजीनियर, Booking.com) ने पोर्टल बनाने में मदद की थी और मंच के परिपक्वता तक पहुंचने के बाद, उन्होंने इसे भारत में लॉन्च करने का फैसला किया। उन्होंने URHope की टीम और नेटवर्क के साथ FoodBank के ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म को मर्ज करने के लिए URHope के साथ हाथ मिलाया। सहायता प्रदाताओं के साथ मदद चाहने वालों को जोड़ने के लिए URHope और FoodBank के एक साथ आने से जुलाई 2020 में URHope-FoodBank का गठन हुआ।



प्रिया ने पहले से ही अपनी अन्य पहल, एक प्रवासी यात्रा परियोजना "मिशन आहन वाहन" (https://www.google.com/amp/s/www.indiatoday.in/amp/education-today/news/story/national-law-school-iit-bombay-join-hands-to-fly-migrants-homes-1683584-2020-05-30) जिसने हज़ारों प्रवासियों को घर वापस सुरक्षित रूप से पहुंचने में सहायता की, के तहत बहुत बड़ा नेटवर्क बना लिया था। इसी नेटवर्क की सहायता से URHope-Foodbank ने विभिन्न शहरों में राशन किट देने में पहले से शामिल संगठनों के साथ जुड़ना शुरू किया।



हम, URHope-Foodbank में आपको एक स्वयंसेवक के रूप में (पोर्टल, उसके सोशल मीडिया या सीधे मामलों को सुलझाने के लिए), एक फूड पार्टनर के रूप में (जहां आप लोगों को राशन किट प्रदान करने में मदद करेंगे) या एक दानकर्ता के रूप में (जहां आप हमें कोई राशि दान नहीं करते हैं, लेकिन, राशन किट प्लेज करके जरूरत पड़ने पर सीधे किट का भुगतान ज़रूरतमंद के लिए करते हैं) मदद करने के लिए आमंत्रित करते हैं।

हम कैसे काम करते हैं?



 1) एक बार जब हमें हमारे आधिकारिक व्हाट्सएप नंबर (+91 80854 18279) या ऑनलाइन फॉर्म (https://india.foodbank.co/help) के माध्यम से सहायता का निवेदन प्राप्त होता है, तो हमारे स्वयंसेवक जरूरत की तात्कालिकता का आकलन करते हैं। यदि संभव हो तो हम संबंधित राज्य / जिले की सरकार की वेबसाइटों या किसी भी अधिकारी से सीधे संपर्क करके राशन कार्ड के स्तर पर मामले को सुलझाने का प्रयास करते हैं। पीडीएस योजना के तहत लोगों को उनके अधिकारों के बारे में जागरूक करना और उन्हें उनके राशन कार्ड का नवीनीकरण या कार्ड में अधिक सदस्यों को जोड़ने की प्रकिया को समझने में उनकी सहायता करना इस पहल का एक हिस्सा है ताकि लोगों को आगे चल कर इसका फायदा मिल सके। 

 2) यदि कोई मामला 1) के माध्यम से हल नहीं होता है तो हम निवेदन करने वाले के राज्य में अपने साथी संगठनों तक पहुंचते हैं जो तब राशन किट प्रदान करते हैं। यदि संगठनों के पास संसाधनों की कमी है या हमारे पास कोई उस राज्य का संगठन नहीं है, तो हम हमारे पास दानदाताओं तक पहुंचते है।


 3) हमारे दान प्रतिज्ञा किट के रूप में काम करते हैं। इसलिए दानदाता हमें दान नहीं करते हैं, बल्कि जब भी हम ऐसी स्थिति में होते हैं जहां सरकार की योजनाओं या संगठनों के माध्यम से मामले को हल नहीं किया जा पा रहा तो हम दाताओं की ओर मुड़ते हैं और हम इसे न्यूनतम रखते हैं। बिल देखने के बाद दाता सीधे निवेदन करने वाले की नजदीकी किराने की दुकान में भुगतान कर सकते हैं। 5-6 के परिवार के लिए मानक राशन किट 600 / - का है।


 4) इसके अलावा, URHope-FoodBank दानदाताओं, स्वयंसेवकों और सीधे साधकों की मदद करने के लिए भोजन से संबंधित एनजीओ को जोड़ने के लिए एक मंच के रूप में भी काम करता है। हमारे फूडमैप पर, हम अन्य महत्वपूर्ण जानकारी के साथ सभी खाद्य गैर सरकारी संगठनों के दान लिंक दिखाते हैं। स्वयंसेवी संगठनों की जरूरत पड़ने पर एनजीओ / खाद्य पहल भी हमारे पास पहुंचते हैं। सीधे तौर पर मदद चाहने वालों से जुड़ने के लिए, हमने एक ऐसा मंच बनाया है जहाँ गैर-सरकारी संगठन / खाद्य पहल या यहाँ तक कि व्यक्तिगत मदद प्रदाता सभी खुली मदद के अनुरोध देख सकते हैं और उनकी मदद कर सकते हैं। हमारे स्वयंसेवक इस प्रक्रिया में उनकी सहायता करते हैं।


हमारी टीम

हम छात्रों से लेकर कामकाजी पेशेवरों तक के उत्साही लोगों के समूह हैं, जो दुनिया के विभिन्न भौगोलिक हिस्सों में स्थित हैं व सामाजिक न्याय के मुद्दों के प्रति हमारे जुनून के माध्यम से जुड़े हुए हैं।

यदि आप टीम का हिस्सा बनना चाहते हैं और हमारा समर्थन करना चाहते हैं, तो कृपया इस फॉर्म link को भरें और हम आपसे संपर्क करेंगे।

आपके करने वालों के प्रयासों के लिए श्रेय और मान्यता दी जाएगी।

Amritesh Srivastava 
URHope-Foodbank Lead
Amritesh is the project lead for Indian chapter of Foodbank and collaboration with URHope.
IIT Delhi, Software Developer

Priya Sharma
URHope-Foodbank Lead

Priya is currently pursuing her PhD at IIT Bombay where she is looking at the regulation aspect of Indian surrogacy through a feminist philosophical lens. She is leading URHope-Foodbank collaboration with Amritesh Srivastava. Being already involved with the social justice issues on campus and beyond, Priya has initiated multiple relief projects in this pandemic, URHope-Foodbank being one of them. She remains hopeful to contribute in building a more caring world.



Priyanshu Bajpai
Head - Program & Product Management
Priyanshu oversees the management of the URHope-FoodBank's roadmap to grow it as a platform.
He works closely with the Tech, Marketing and Operations Depts. within UrHope-Foodbank for feature delivery and enhancements.

SDE@Amazon, BITS-Pilani

Divya 
Content Writer and Social Media Manager
Divya has an MBA in Marketing & has over 6 years of experience as a content creator, blogger & social media marketer. She is working as the content writer & social media manager for URHope-Foodbank.
Aditya
Social Media Management and Marketing 
Aditya is a photographer and an environmentalist by heart. Currently, he is pursuing electronics engineering from Mumbai University and is an MBA aspirant. He is actively involved with the social media management and marketing team at URHope-Foodbank.
Ananya Jain
Operations Volunteer
A Junior at BITS Pilani. Striving towards being a committed and empathetic Hindustani. One initiative at a time.
Kundan Khare
Operations Volunteer
Kundan works as a design engineer at Mahle, Pune.
He is passionate about cars, bikes, health & fitness, science and politics. These things keep him busy during majority of his free time.
Akshita Bhardwaj
Operations Volunteer
Akshita is currently pursuing her B.Tech in Mechatronics (3rd year) from Banasthali Vidyapeeth, Jaipur. What excites her the most in volunteering with URHope- FoodBank is the joy of working with many like-minded people for a cause they all believe in, the satisfaction of having helped someone in the need, and most importantly sharing hope amongst them.
Harshda Saxena
Operations Volunteer

Harshda (she/her) is a sophomore in Engineering Physics at IITB. She love reading books, playing sports (basketball, badminton and others) and tries to help out in any small way that she can :)



Sonali Mehta
Operations Volunteer
"Poverty devastates familes, communities and nations" and it is this devastation that we need to get rid off completely is the idea beheld by Sonali. Sonali is currently working in Central Board of Indirect Taxes and Customs. She has completed her M.Phil in Comparative Literature from Jadavpur University, Kolkata. Her passion lies in creating access to the basic amenities for every living being. She is connected to various Non-Profit Organisations and her vision is to provide the best of all resources to the generations to come.
Shatabdi Singh
Operations Volunteer
Shatabdi is pursuing Arts at Banasthli Vidyapeeth, Jaipur. She is an NCC cadet, a sportsperson, have a keen interest in cooking (experiments with delicacies from all around the world and give it her own twist), she likes to write short poems, quotes and thoughts. With URHope-Foodbank she has found the most satisfying opportunity to help others as a small initiative may lead to a big change.
Pravesh Mehta
Contributer
Having completed his Diploma in pharmacy from NMIMS Mumbai, Pravesh is currently an undergraduate student at Dr. DY PATIL IPSR Pune. He has done rigorous research in Parkinson's disease and Drug delivery and this practical experience has proven useful in honing his skills of collecting, sifting, and managing data, thus, helping people access authentic information.
Max Bratsun
 Founder of FoodBank.co Bali Chapter